हो रही है King Of Indian Roads एंबेसडर की वापसी, 2014 में हुई बाजार से गायब, नए रूप में वापसी

Share

एक समय था जब एंबेसडर गाड़ियां शान की सवारी मानी जाती थीं. किसी गांव,गली,मोहल्ले में एंबेसडर गाड़ियों के आने का मतलब यही होता था कि कोई बड़ी हस्ती आई है. और तो और प्रधानमंत्री से लेकर डीएम, एसडीएम तक इस गाड़ी की सवारी करते थे. समय के साथ जैसे-जैसे आधुनिक गाड़ियों ने बाजार पर कब्ज़ा किया वैसे वैसे इसकी मांग घटती गई और फिर 2014 में इसका प्रोडक्शन बंद कर दिया गया. 

लेकिन अब खबर ये है कि बहुतों की पसंदीदा ये शान की सवारी एक बार फिर से वापसी कर रही है. जी हां, मीडिया रिपोर्ट्स के आनुसार एंबेसडर बनाने वाली कंपनी हिंदुस्तान मोटर्स कथित तौर पर इलेक्ट्रिक वाहन सेगमेंट में प्रवेश करके वापसी करने की योजना बना रही है.

अभी के दौर में ऑटो इंड्स्ट्री में आई क्रांति के बीच अधिकांश प्रमुख कंपनियां इलेक्ट्रिक सेगमेंट में प्रवेश करने की सोच को मजबूत कर रही हैं. भले ही इलेक्ट्रिक वाहन उद्योग अभी भी एक प्रारंभिक चरण में है लेकिन इसके बावजूद खबर है कि एंबेसडर निर्माता हिंदुस्तान मोटर्स इलेक्ट्रिक वाहनों के साथ भारत में वापसी करने की योजना बना रही है.

हिंदुस्तान मोटर्स की एंबेसडर का जलवा ऐसा था कि इसे ‘किंग ऑफ इंडियन रोड्स’ कहा जाता था. ऐसा इसलिए क्योंकि 80 के दशक तक भारत की सड़कों पर इस कार का लगभग एक छत्र राज था. अधिकतर एंबेसडर कारों पर लाल-नीली बत्ती ही लगी होती थी. यह गाड़ी अधिकारियों और नेताओं के पास ज्यादा होती थी इसलिए इसे आम लोगों के बीच ‘शान की सवारी’ माना जाता था. 

ये कार 1.5 लीटर और 2.0 लीटर के पावरफुल डीजल इंजन और 1.8 लीटर के पेट्रोल इंजन के साथ आती थी. इसका इंजन आज के किसी SUV की पॉवर से कम नहीं था.